Sunday, November 3, 2019

Why and how to start running

Photo created by freepik - www.freepik.com

For me, running is an essential part of my life and it should be everyone's. When I do running it gives me inner satisfaction and helps me to clear my mind and reduces stress. As such, running is pure therapy for the soul. If you feeling low and lazy, go for a run and see what happens! 


“Running is about finding your inner peace, and so is a life well lived.” --Dean Karnazes

I started my marathon journey in mid-2015 and after that, I run at least 1 or 2 half marathons a year. This was a period when I was fighting with my mind. My mind was very distracted and confused, nothing was going well. The effects of the depression were rapidly dominating me, the mind feels very sad and lonely, sometimes it seems as if everything is going to end. When the doctors' medicines did not work, I started getting frustrated and then I started researching on the internet about the problem. Eventually, I discovered my problem, I was struggling with anxiety and phobias.

When we are physically ill, we know where the pain is but when we are mentally disturbed, it is very difficult to know that we are sick. Today's lazy lifestyle is affecting our mental health immensely, people are getting various types of lifestyle-related diseases due to this inactiveness. Type 2 diabetes is one of them. So, physically activeness is very important, so that body gets recharge and do all the essential function well.


Food is important for staying fit 


Everybody knows that balanced food is essential for our body but what we eat; processed, heavily salted, non-veg and junk food. When we eat this kind of food it is not getting out of our body and starts depositing in our channels and creates problems.

The other problem is that we consistently keep eating, we eat three times and sometimes four times.  Our body always busies digesting the food and doesn't get time for the healing. We should know that whatever the disease we have, our body is capable of healing it but the problem is that we never give time for the healing process because the whole day we keep munching. 

If we eat right and balanced food than medicine is no use.  

So, give some time to your body for the healing process and eat only when your body asks. Ayurveda recommends getting all six tastes — sweet, sour, salty, pungent, bitter and astringent — at every meal. 

We will talk on this subject later, now, let focus on physical activity and running is best to keep fit and rejuvenated.
  

Do you know what happened when we run?

In the first few seconds, your muscles start using adenosine triphosphate (ATP), energy molecules your body makes from food. So when you start running, your heart rate will be high, your breathing will feel heavy, and you won't feel a hundred percent. However, know that this will pass.

In the next few minutes, your heart starts beating faster and directing blood toward your muscles and away from functions you don't need at the moment, such as digestion. To make the best use of glucose, your muscle cells require an influx of oxygen. Cue heavy breathing.

According to the https://www.runnersworld.com, A study of 51 young people found those who ran regularly were able to sleep better, had signs of improved psychological functioning and focused better during the day. To get these benefits, researchers found all you needed to do was run at a moderate pace for 30 minutes a day, five days a week for three weeks.

It’s a well-documented fact that runners are happier people. In a recent study by scientists at Glasgow Caledonian University, 89% of runners said that running regularly made them happier, as well as having a positive impact on their mental health and body image.


How to start?

We all know that beginning with little steps helps to achieve big, so start with warm-up because whatever distance you’re running, it’s crucial to warm up beforehand.

Three main running steps are:

Warm-Up

Take these steps for your warmup:
  • Do about 5 to 10 minutes of light aerobic exercise to loosen up your muscles and warm you up for your run. Some good pre-run warm-up exercises include walking briskly, marching, jogging slowly, or cycling on a stationary bike. Make sure you don't rush your warmup.
  • Surya Namskar is best for warm-up.
  • If you like doing dynamic stretches or exercises before your run, do walking lunges, jumping jacks, or opposite toe touches.
  • Begin your run. Don't start out racing, but instead jog slowly at first and gradually build up your speed. You should be breathing very easily. If you feel yourself getting out of breath, slow down. This is part of knowing how fast you should run, and it's easy to start off too fast.
  • Pay attention to your running posture and form when you begin your run. Ensure you are using the best technique before you speed up.

Running - Go slowly


You want to do nearly all your runs at a comfortable, conversational pace, and finish each run feeling like you have the energy – and desire – to run another mile. The biggest mistake first-timers make is running too many miles, too fast, too soon – and that’s a recipe for injury, loss of motivation and burnout. ‘If at the end of your run, you’re gasping for air, or in pain, then you’re going too fast,’ says Hamilton.

Running is a process, you cannot run 5 km or 10 km in just one-day training, you have to practice day by day and gradually.


Cool-down

At the end of your run, take these steps:

After you finish your run, cool down by walking or slowly jogging for 5 to 10 minutes. Your breathing and heart rate should gradually return to normal.

Drink water, coconut water, lemon water to replenish yourself.


Running essentials


Some precautions avoid injuries while running, so before the start, you must have these items.
1. Comfortable running shoes and socks.
2. Light cotton clothes
3. Hydration is essential while running so, keep a water bottle with you.

So, what are you waiting for, go outside and run!

In, next blog we will talk about the training and schedule.

Keep running and stay healthy.




Thursday, March 8, 2018

दिल्‍ली 06 की साइकिल यात्रा





दोस्‍तों साइकिलिंग (Cycling) अपने आप में एक पूरी एक्‍सरसाइज है क्‍योंकि यह आपके दिल, मांस-पेशियों को मजबूत करती है, वजन, तनाव कम करने और आपको चुस्‍त बनाने में मदद करती है।

मुझे साइकिल (cycle) चलाना बेहद पसंद है अगर मुझे मौका मिले तो दिनभर साइकिल चलाता रहूं मगर क्‍या करूं दिल्‍ली जैसे शहर साइकिल चलाने के लिए उपयुक्‍त नही हैं। यहां न साइकिल के लिए अलग ट्रैक है और ना ही लोग सड़क पर साइकिल चलाने वालों को रास्‍ता देते हैं या उनका सम्‍मान करते हैं। इसीलिए ज्‍यादातर लोग कनॉट प्‍लेस, इंडिया गेट और राष्‍ट्रपति भवन, चाणक्‍यपुरी और आस-पास के दायरे में ही साइकिल चलाते हैं मगर मुझे थोड़ा रोमांच चाहिए होता है इसलिए मैनें दिल्‍ली 06 के इलाके में जाने का प्‍लान बनाया।



दिल्‍ली 6 की स्थिति बेहद चिंताजनक है यहां हर तरफ कूड़ा-कचरा, गंदगी फैली रहती है जिसका सबसे बड़ा कारण यहां पर लोगों की भीड़ है। जो जगह 100 लोगों के रहने के लिए है वहां हजारों लोग रहते हैं।

मैं मिंटो रोड़ कॉम्‍पलेक्‍स में रहता हूं यह सरकारी कालोनी है मगर जैसे ही आप गेट से बाहर निकलते हैं तो आपका सामना अनगिनत संख्‍या में खड़े ऑटो रिक्‍शा से होता है। खैर मैं वहां से आगे तुर्कमान रोड़ पर निकला जो अतिक्रमण के कारण पूरी तरह त्रस्‍त है बदबू इतनी कि सांस लेना दूभर हो जाता है मुझे ताजुब्‍ब होता है कि लोग ऐसी स्थिति में कैसे रह सकते हैं। वहां से मैं cycling करते जीबी पन्‍त अस्‍पताल होते हुए आटीओ,  राजघाट की तरफ बढ़ा तो थोड़ी राहत महसूस हुई लेकिन बस कश्‍मीरी गेट बस अड्डा पहुंचने पर फिर से वही दृश्‍य वही अराजकता का माहौल आपका स्‍वागत करता है, पता नहीं लोगों को कैसी शिक्षा मिलती है जो वे थोड़ी सी खाली जगह मिलते ही या तो उसे गंदा करने लगेंगे या उसका अतिक्रमण कर लेंगे। बस अड्डे से तीस हजारी की तरफ cycling करते हुए भी कमोबेस यही स्थिति नजर आती है हर जगह बहुत प्रदूषण (pollution)
 है।

वहां से जैसे ही मैं पुल बंगश होते हुए आज़ाद मार्केट और वहां से आगे बढ़ते हुए नया बाजार रोड़ पर लाहौरीगेट की ओर मुड़ा तो वहां मेरा स्‍वागत मिली-जुली गंधों से हुआ वहां तरह-तरह के मसालों की खुशबू फैली हुई थी, गंदगी का तो कोई हिसाब ही नहीं था शायद लोग रात को जब दुकाने बंद करते हैं तो अपना सारा कूड़ा सड़क पर फेंक देते हैं।

यही हाल चांदनी चौक और स्‍वामी श्रृद्धानंद मार्ग का भी है, सड़कें टूटी हुई और कीचड़ तथा गंदगी से अटी पड़ी थी उसके बाद दिल्‍ली गेट आता है यहां अनेक बड़ी कंपनियों के ऑफिस है मगर लोगों का इतना दबाव है कि सब कुछ अस्‍त-व्‍यस्‍त रहता है इसके बाद जैसे ही मैं नई दिल्‍ली रेलवे स्‍टेशन की तरफ बढ़ा तो हर जगह लोगों से त्रस्‍त थी पूरे क्षेत्र में पेशाब की गंध फैली हुई थी, लोग कहीं भी शुरु हो जाते हैं उन्‍हें न किसी की फिक्र होती है और ना ही वे सब्र करना जानते है और किसी से टॉयलेट के लिए पूछना तो उनके डीएनए में है ही नहीं।

मेरी आगे साइकिलिंग करने की हिम्‍मत नहीं हुई क्‍योंकि मेरा गला धूल से भर चुका था। अगर हम लोग इसी तरह से गंदगी फैलाते रहे तो दिल्‍ली एक दिन कूड़े का ढेर बनके रह जायेगी।

ध्‍यान देने योग्‍य बातें

  • साइकिल चलाते समय हेलमेट जरुर पहनें क्‍योंकि हमारे देश में साइकिल चलाने वालों को सड़क पर उतनी अहि‍मियत नहीं दी जाती है जितनी कि अन्‍य देशों में दी जाती है।
  • अपनी साइकल पर लाइट रिफ्लेक्‍टर और ब्लिंकर लाइट्स अवश्‍य होनी चाहिए ताकि आपके पीछे से आने वाली गाड़‍ियां आपको देख सके।
  • सनग्‍लासेस और Pollution mask जरुर पहनें यह आपको बीमार होने से बचायेगा।
  • अपने साथ अपना फोन और पर्याप्‍त मात्रा में पानी रखें।

    Wednesday, January 31, 2018

    दिल्‍ली का दिल - कनॉट प्‍लेस


    अगर आप दिल्‍ली में रहते हैं या दिल्‍ली घूमने या काम से आये हैं तो आप कनॉट प्‍लेस (राजीव चौक) अवश्‍य गये होंगे। दोस्‍तों, परिवार, रिश्‍तेदारों के साथ घूमने, शॉपिंग करने व खाने-पीने की बढ़िया जगह है। अंग्रेजों ने कनॉट प्‍लेस की नींव 1929 में रखी और 1933 में यह बनकर तैयार हुआ। एक जमाने में यह जंगल हुआ करता था और आस-पास के लोग यहां शिकार खेलने आया करते थे। इसका नाम प्रिंस आर्थर, कनॉट एंड स्‍ट्रैथर्न के पहले राजकुमार के नाम पर रखा गया है, वे रानी विक्‍टोरिया के तीसरे बेटे थे, और 1921 में भारत आये थे।  
    अंग्रेज कितने दूरदर्शी थे इसका अंदाजा इसकी वास्‍तु कला से लग जाता है, आज भी यहां उस तरह की समस्‍याएं नहीं आती है जो आजादी के बाद बने अन्‍य बाजारों में होती है। हर चीज को सोच-समझकर डिजाइन किया गया है। यहां तीन सर्कल है आउटर, मिडिल और इनर सर्कल। गोलाई में बनी एक जैसी इमारतें इसे बेहद खास बनाती है।  
    आज कनॉट प्‍लेस बिजनेस, खाने-पीने, खरीददारी, सिनेमा और अच्‍छा समय बिताने की सबसे बढ़िया जगहों में से एक है, सप्‍ताह के सभी दिन यहां बड़ी चहल-पहल रहती है, मगर वीकेंड में रौनक पहले से कई गुना बढ़ जाती है। यहां सभी तबकों के लोग आते हैं चाहे वे सभ्रांत हों, हाई क्‍लास, मिडिल क्‍लास सभी आते हैं। लोग कई तरह की गतिविधियां करते हुए देखे जा सकते हैं। कोई स्‍केच बना रहा है, कोई गिटार बजा रहा है, कहीं कोई कैंपेन चल रहा होता है, कोई डिस्‍काउन्‍ट के पर्चे बांट रहा है और न जाने क्‍या-क्‍या। यहां छोटे-बड़े ढेर सारे रेस्‍त्रां और बार्स हैं अगर आप थोड़ा सा घूमेंगे तो आपको किफायती रेस्‍त्रां और बार मिल जायेगा। अक्‍सर जनपथ के सामने वाले सब-वे में पेन्टिंग्‍स और स्‍कल्‍पचर की प्रदर्शनी चलती रहती है। पी ब्‍लॉक वाले सब-वे में आपको योग से जुड़े मोजैक मिल जायेंगे और अगर आप एन ब्‍लॉक वाले यानि सिंधिया हाउस वाले सबवे को इस्‍तेमाल करेंगे तो वहां आपको दीवारों पर सूर्य नमस्‍कार और योग की अन्‍य मुद्राओं के मोजेक चित्र नजर आयेंगे मगर दुख की बात है कि लोग सब-वे का इस्‍तेमाल करना पसंद ही नहीं करते हैं उन्‍हें तो एडवेंचर पसंद है, वे अपना जादुई हाथ लहराते हुए ट्रैफिक के सामने से पार करते हुए दूसरी तरफ जाते हैं।

    चार धामों में से एक बद्रीनाथ के बारे में जानने के लिए क्लिक करें

    खूबसूरत सेंट्रल पार्क सभी लोगों की पसंदीदा जगहों में से एक है खासकर युवाओं की, यहां पर एक एंफी-थिएटर भी है, यहां गांधी जी का चरखा और छोटा सा म्‍यूजियम भी है। सेंट्रल पार्क की एक और खास बात है यहां लहराता भारतीय तिरंगा जिसकी ऊंचाई 63 मीटर है और झंडे की ऊंचाई 18 मीटर और चौड़ाई 27 मीटर है।

    खरीददारी

    पालिका बाजार काफी लोकप्रिय है जिसे 1970 में बनाया गया था, यहां से आप कपड़े, महिलाओं की एक्‍सेसरीज आदि कई चीजों की खरीददारी कर सकते हैं, इसके अलावा जीवन भारती बिल्डिंग के पीछे का जनपथ मार्केट भी काफी लोकप्रिय है। आउटर सर्कल पर भी पटरी मार्केट लगता है, जहां से सस्‍ते दामों पर चीजें खरीदी जा सकती हैं।

    सिनेमा

    यहां पर चार सिनेमा हॉल जिनमें से एक रीगल प्‍लाजा बंद हो चुका है यह दिल्‍ली का सबसे पुराना सिनेमा हॉल था, जो कभी बहुत मशहूर हुआ करता था इसमें अमीर लोग ही जा सकते थे। सिनेमा के यहां यहां कसर्ट, नाटक, बैले डांस आदि कार्यक्रम भी आयोजित हुआ करते थे। 1 दिसंबर से इसमें मैडम तुसाड म्‍यूजियम खुल गया है शायद आपको पता होगा कि मैडम तुसाड म्‍यूजियम में सेलिब्रिटीज के असली जैसे दिखने वाले पुतले लगाये जाते हैं। रिवोली सिनेमा आउटर सर्कल पर शिवाजी स्‍टेडियम बस टर्मिनल के पीछे है, प्‍लाजा मिडिल लेन में और ओडियन सी ब्‍लॉक में आउटर सर्कल पर है।
    खाना पीना
    खाने-पीने की जगहों की यहां पर कोई कमी नहीं है चाहे आपको स्‍ट्रीट फूड खाना हो या फाइन डाइन में जाना हो या किसी बार में ड्रिंक्‍स का आनंद लेना हो, आपके पास ढेरों विकल्‍प हैं, यहां हर ब्‍लॉक में कई रेस्‍टोरेंट बार हैं, वीकेंड्स पर तो यहां गजब भीड़-भाड़ होती है, पार्किंग मिलना मुश्किल होता है। यहां अंग्रेजों के जमाने में खुला युनाइटेड कॉफी हॉउस आज भी चल रहा है।
    आस-पास
    कनॉट प्‍लेस के आस-पास जनपथ, जंतर-मंतर, हनुमान मंदिर, उग्रसेन की बावली, राष्‍ट्रपति भवन, इंडिया गेट, मंडी हाउस, बंगाली मार्केट, बंगला साहिब गुरुद्वारा, अशोक रोड़ पर बना कैथेड्रल चर्च, गोल डाकखाना, नई दिल्‍ली रेलवे स्‍टेशन, शिवाजी स्‍टेडियम, राजीव चौक मेट्रो स्‍टेशन, पहाड़ गंज, झंडेवाला मंदिर इत्‍यादि अनेक स्‍थान हैं जहां आप जा सकते हैं।
    कैसे पहुंचे
    दिल्‍ली और एनसीआर में कहीं से भी यहां मेट्रो के जरिए आसानी से पहुंचा जा सकता है, रेल से नई दिल्‍ली तक और आगे या तो पैदल या रिक्‍शा से, बसें भी लगभग सभी हिस्‍सों से यहां आती है। रुकने के लिए तो अनेकों विकल्‍प हैं आप पहाड़गंज में रुक सकते हैं वहां सस्‍ते से लेकर महंगे तक सभी विकल्‍प हैं।

    अवश्‍य पधारें मगर स्‍वच्‍छता का ध्‍यान रखें।



    Wednesday, November 22, 2017

    सरिस्‍का टाइगर रिजर्व और भानगढ़ किले का यादगार अनुभव

    भानगढ़ का किला (c)
    नवंबर 2012 में हमने एक बाइक ग्रुप को ज्‍वाइन किया, ग्रुप ने सरिस्‍का और भानगढ़ (Bhangarh) का Bike Riding का प्रोग्राम बनाया, हमारे ग्रुप VIBGYOR the BASECAMP ने जो अब तक केवल ट्रेकिंग करता था,  इस नये अनुभव को करने की योजना बनायी। हम पहली बार जा रहे थे इसलिए हम बहुत उत्‍साहित थे इस उत्‍साह के दो कारण थे, पहला लम्‍बी Bike Riding और दूसरा भानगढ़ का भुतहा किला।
    ग्रुप के साथ Bike Riding का अपना अनुभव है क्‍योंकि ग्रुप के कुछ नियम कायदे होते हैं जिनका पालन करना होता है, उनकी अपनी टर्मिनोलॉजी होती है जैसे कि ग्रुप लीडर, मार्शल, लीड राइडर, टेल राइडर, साथ ही कुछ संकेत होते हैं ताकि बाइक्‍स आपस टकराये नहीं और सभी सुरक्षित रहें जैसे कि एक या दो के फॉरमेशन में चलना, रुकना चाहते हैं तो इशारा करना, हेडलाइट्स हर समय जलाकर रखना आदि।
    फ्‍लैग ऑफ
    सुबह 4 बजे हमें नानकपुरा से फ्‍लैग ऑफ करना था, सभी एक-एक करके पहुंच रहे थे, सब लोगों के पहुंचने पर ब्रीफिंग हुई और हम आगे की ओर बढ़ गये। उनके पास सभी तरह की बाइक्‍स थी, एक कावासाकी निन्‍जा भी थी, 1-2 बुलैट भी थी, हम में से किसी के पास भी बुलैट नहीं थी हम 150 सीसी की Bikes पर सवार थे। सभी लोड लीड राइडर को फोलो कर रहे थे, करीब एक घंटा चलने के बाद हम माणेसर पहुंचे वहां चाय पी और आगे बढ़ गये, सुबह करीब 7-8 बजे हम नाश्‍ते के लिए रुके। नाश्‍ते करने के बाद ग्रुप एडमिन ने संकेत दिया कि यहां से Bikes भगा सकते हैं बस फिर क्‍या था सबके सब एक दूसरे को पीछे छोड़ने की होड़ में लग गये, नियम कायदे गये तेल लेने, हाइवे पर तू्फान मच गया। बेचारा ग्रुप एडमिन  किस तरह से आगे आया और सबको रोका, अब तय किया गया कि 70 किमी प्रति घंटा से ऊपर कोई नहीं जायेगा।
    रंजन व अन्‍य साथी राइडर्स
    बीच में एक बाइक पंक्‍चर हो गयी जिससे हमारा समय बर्बाद हुआ, हम लोगों को अलवर पहुंचने में ही 6 घंटे लग गये। करीब 11-12 बजे हम सरिस्‍का रिजॉर्ट में पहुंचे, जो ठेठ राजस्‍थानी स्‍टाइल में बना हुआ है, मिट्टी की दीवारें, राजस्‍थानी शैली की चित्रकारी बहुत सुंदर लग रही थी, वहां एक स्विमिंग पूल भी था, एक घंटा वहां बिताने और खाना खाने के बाद तय किया गया कि हम भानगढ़ का किला देखने जायेंगे जो रिजॉर्ट से लगभग 75 किमी दूर था, कुछ लोग रिजॉर्ट में ही रहे मगर हम तो उनके साथ हो लिये, हम सरिस्‍का, थाणागाजी, किशोरी, अज़बगढ़ होते हुए करीब 4.30 बजे भानगढ़ किले में पहुंचे तो चौकीदार ने मना कर दिया क्‍योंकि 5 बजे के बाद अंदर जाने की अनुमति नहीं, मगर बाद में वह मान गया और हम अंदर चले गये।
    शिलालेख
    भानगढ़ के बारे में कहा जाता है कि यहां भूत रहते हैं और रात को यहां रुकने की अनुमति नहीं है, कई लोगों ने उन्‍हें देखने का दावा भी किया है, मगर यह कितना सच है या झूठ किसी को नहीं पता मगर यह बेहद शानदार और खूबसूरत किला है, इसके चार प्रवेश द्वार हैं, लाहौरी गेट, अजमेरी, फुलबाड़ी और दिल्‍ली गेट। गेट से अंदर जाते ही बाज़ार और बस्‍ती के अवशेष हैं जिससे पता चलता है कि नगर कितना व्‍यवस्थित रहा होगा इसे पार करने के बाद बहुत बड़ा मंदिर आता है जो अभी भी सुरक्षित है यह पीले पत्‍थरों से बना है और इसकी नक्‍काशी बेहद खूबसूरत है। हमें यहां जाने का अवसर नहीं मिला क्‍योंकि शाम तेजी से ढल रही थी और हमें वापिस भी जाना था। इसके बाद हम आगे बढ़ते हुए मुख्‍य किले की ओर बढ़े जो करीब 100 मीटर ऊंचाई पर है वहां से आस-पास का पूरा नजारा दिखायी देता है।
    भानगढ़ के ऊपरी किले से दिखायी देता शानदार नजारा
    शाही महल में पहुंचने के बाद पता चलता है कि अपने जमाने में यह कितना भव्‍य और सुंदर रहा होगा। शाही स्‍नानागार के अवशेष इसके शाही होने का संकेत देते हैं। कुछ देर वहां और रुकने के बाद हमें नीचे आना पड़ा क्‍योंकि अंधेरा होने लगा था और हमें अभी 75 किमी दूर जाना था। इसीलिए हम जल्‍दी-जल्‍दी नीचे आये और वापिस चल दिये, थोड़ी दूर चलने के बाद रात हो गयी और नवंबर का आखिरी हफ्‍ता चल रहा था तो सर्दी भी काफी थी, आते समय हम रास्‍ता भटक गये और किसी तरह से पूछते-पाछते करीब 9 बजे रिजॉर्ट पहुंचे। सभी लोग बहुत ज्‍यादा थके होने के कारण खाना खाकर जल्‍दी सो गये क्‍योंकि अगले दिन हमें सरिस्‍का टाइगर रिजर्व जाना था।
    Sariska Tiger Reserve
    अगले दिन हम 4 लोग मैं, हुकुम, गौतम और हिमांशु ही सरिस्‍का गये बाकी सब सोते रहे, प्रेम, संदीप और रंजन बाद में आये मगर तब तक इंट्री बंद हो चुकी थी तो उन्‍हें वापिस लौटना पड़ा। हम जिप्‍सी पर बैठकर पार्क में घूमने के लिए चले गये यह काफी बड़ा पार्क है और कई तरह के जीव-जन्‍तु यहां रहते हैं मगर मुख्‍य आकर्षण तो बाघ ही है मगर हमें वहां नील गाय, हिरण, बंदर, लंगूर और मोर के अलावा कुछ नहीं दिखा। गाइड हमें बाघ के पंजे दिखाता रहा जिसमें मेरी तो कोई दिलचस्‍पी नहीं थी मगर हमारे एक मित्र की बाघ का नाम सुनते ही हवा टाइट हो गयी थी। करीब एक घंटा घूमने के बाद हम वापिस रिजॉर्ट आ गये।

    सभी ने खाना खाया और करीब 11 बजे वापिस दिल्‍ली के लिए चल पड़े अलवर शहर से 20 किमी. पहले अरावली पर्वत श्रृंखला के तल पर एक खूबसूरत झील सिलसिलेह पड़ती है जो करीब 7 किमी लंबी है। इस जलाशय का निर्माण महाराजा विनय सिंह ने सन् 1844 में करवाया था ताकि अलवर तक पानी पहुंचाया जा सके। महाराजा ने इस झील का नाम सिलसिलेह अपनी अपनी रानी के सम्‍मान में दिया जिनका नाम सीला था इसके साथ-साथ उन्‍होंने एक छोटा सा सफेद महल भी बनाया जो पानी से थोड़ा ऊपर है। यहां बोटिंग का आनंद लिया जा सकता है, वाटर स्‍पोर्ट्स भी होते हैं और वीकेंड पर यहां बहुत भीड़-भाड़ रहती है।
    सिलसिलेह लेक का खूबसूरत दृश्‍य
    झील में थोड़ा वक्‍त गुजारने के बाद हम वापिस दिल्‍ली के लिए चल दिए। इस प्रकार एक बेहतरीन बाइक राइडिंग ट्रिप की समाप्ति हुई।
    मेरा मानना है कि पानी अगर तालाब में ही पड़ा रहेगा तो वह सड़ जाता है इसीलिए उसका बहना जरुरी है इसी प्रकार मनुष्‍य ढर्रे की जिंदगी जीता रहेगा तो वह तनाव ग्रस्‍त और चिड़चिड़ा हो जायेगा, उसका मानसिक  विकास भी प्रभावित होगा, उसमें जीवन के प्रति लगाव कम हो सकता है। इसलिए अपनी ढर्रे वाली जिंदगी से बाहर निकलिए और नये अनुभवों के साथ खुद को फिर से तरोताजा कीजिए।
    आशा है आपको लेख पसंद आया हो, अपनी प्रतिक्रिया अवश्‍य दीजिए।
    लेख पढ़ने के लिए समय निकालने के लिए आपका धन्‍यवाद
    सभी चित्र कॉपी राइट्स हैं

    Monday, November 20, 2017

    नैनीताल - भारत का बेहतरीन हिल स्‍टेशन

    Naini Lake 
    यूं तो उत्‍तराखंड में अनेकों दर्शनीय स्‍थल हैं लेकिन नैनीताल की बात की कुछ और है। मुझे पहली बार वहां जाने का अवसर 2014 में मिला था जब मैं अपने दोस्‍तों के साथ वहां घूमने गया था। अगस्‍त का महीना था इसलिए चारों ओर हरियाली ही हरियाली थी सभी छोटे बड़े नाले पानी से भरे हुए थे, रह-रहकर बारिश हो रही थी और कोहरा मानों आंख मिचोली खेल रहा था, एक पल में पूरा वातावरण साफ हो जाता था लेकिन अगले ही पल 50 मीटर आगे दिखना बंद हो जाता था।  
    इस ट्रिप के दौरान हमने वहां के सभी तालों का भ्रमण किया था जो एक शानदार अनुभव था।  सबसे पहले हम भीमताल गये और उसके बाद नौकुचिया ताल। हमने फैसला किया कि आज रात भीमताल में ही रुका जाये इसलिए हमने वहां KMVN का गेस्‍टहाउस में ठहरने का फैसला किया। गेस्‍टहाउस लगभग खाली था और सीजन न होने के कारण हमें काफी सस्‍ते में जगह मिल गयी। KMVN भीमताल से ऊपर थोड़ी सी दूरी पर बना है यहां से आप भीमताल और आपपास का पूरा नजारा देख सकते हैं।
    भीम ताल का मनमोहक नजारा

    भीमताल व आस-पास

    शाम को हम भीमताल की सैर पर निकले इसकी लंबाई लगभग यह झील समुद्र तल से 1332 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। इसकी लम्बाई 1674 मीटर, चौड़ाई 427 मीटर और गहराई 30 मीटर है। जैसा कि नाम से ही जाहिर है इसका नाम महाबली भीम के नाम पर पड़ा है। ऐसा माना जाता है कि भीम ने इसे पांडवों के वनवास के दौरान बनाया था। झील के आखिर में एक बांध भी बना है जिसे विक्‍टोरिया बांद कहा जाता है जो आकर्षण का केन्‍द्र है इसके अलावा इसके किनारे पर शिवजी का प्राचीन मंदिर भी बना है।
    अगले दिन हम नैनीताल के लिए निकले और रास्‍ते में सातताल में रुके यह भी काफी बड़ा ताल है। इसका नाम सात तालों के समूह की वजह से पड़ा है यहां पर तरह-तरह के पक्षियों और ति‍तलियों को देखा जा सकता है। हमने ताल के एक छोर से जंगल में ट्रेक करने की योजना बनायी जो काफी अच्‍छा रहा हम करीब 1 किमी. तक अंदर गये होंगे वहां पर थोड़ी रुकने के बाद हम वापस आ गये जब हम वापिस ताल पर आये तो मेरे पैर पर जोंक चिपकी हुई थी किसी तरह से मैंने उसे छुड़ाया।
    सातताल
    सातताल में तितलियां
    इसके बाद हम करीब 1 बजे नैनीताल पहुंचे वहां मौसम पल-पल बदल रहा था कभी धूप कभी बारिश तो कभी कोहरा छाने लगता था।

    नैनीताल

    नैनीताल यानि मां नैना देवी का ताल, नैना देवी पार्वती का एक नाम है, ऐसा माना जाता है कि जब भगवान शिव मां पार्वती के जले हुए शरीर को लेकर जा रहे थे तो उनकीं आंखें यहां गिर गयी थी इसीलिए इसे नैनीताल नाम मिला। इसे 64 शक्तिपीठों में से एक भी माना जाता है। नैनीताल का जिक्र स्‍कंद पुराण के मानस खंड में भी मिलता है जहां इसे त्रिॠषि सरोवर कहा गया है जो तीन ॠषियों अत्री, पुलसत्‍य और पुलाहा की कहानी बताता है जिन्‍होंने यहां पानी न मिलने के कारण बहुत बड़ा गड्ढा खोदा और इसे तिब्‍बत में पवित्र मानसरोवर के पानी से भर दिया।
    वर्तमान में सरोवर के उत्‍तरी छोर पर मां नयना देवी का मंदिर बना हुआ है। झील की लंबाई 1.432 किमी., चौड़ाई 42 मीटर और गहराई 27.3 मीटर है, समुद्रतल से इसकी ऊंचाई 1938 मीटर है और झील के दो हिस्‍से हैं जिन्‍हें तल्‍ली ताल और मल्‍ली ताल कहा जाता है।
    हम माल रोड़ पर घूमें, बोटिंग का आनंद उठाया, आस-पास की जगहों को देखा और शाम को वापिस भीमताल आ गये और अगले सुबह-सुबह दिल्‍ली के लिए रवाना हो गये। सच में हमारा ट्रिप बेहद यादगार रहा।

    नैनीताल और आस-पास
    यहां पर चिड़ियाघर, मालरोड़, तिब्‍बती बाजार, बड़ा बाजार, रोपवे, राजभवन, टिफिन टॉप, ईको कैव गार्डन, लवर्स प्‍वाइंट, हिमालय दर्शन, कैमल्‍स बैक, हनुमान गढ़ी आदि दर्शनीय स्‍थल है। आप चाइना प्‍वाइंट पर जा सकते हैं जहां से झील  आंख की तरह दिखती है।
    आप ट्रेकिंग के लिए देवपट्टा या कैमल बैक पहाड़ी तक जा सकते हैं, इसके ऊंट की आकृति का होने के कारण यह नाम मिला है।
    आपकी नैनीताल यात्रा अधूरी है यदि आप हिमालय दर्शन के लिए नहीं गये है, बड़ा पत्‍थर पर घुड़सवारी कीजिए, नकुलधार ईको कैव गार्डन में खो जाईये, लवर्स प्‍वाइंट तक टहलने जाईए और अपने साथी के साथ रोमांस कीजिए, किलबरी पर शाम गुजारिए,आप इतना सब कुछ एक दिन में ही कर सकते हैं। किलबरी नैनीताल से लगभग 5 किमी दूर है मगर बेहतरीन जगह है।
    लौटते समय काला ढूंगी के रास्‍ते से आइये यहां आपको खुर्पाताल के अलावा मनमोहक नजारे देखने को मिलेंगे।

    मौसम

    मौसम तो यहां का बेमिसाल रहता है अगर आपको सर्दियां पसंद है तो अयारपाटा में रुकिये और हड्डियां गला देने वाली ठंड का आनंद लीजिए।   

    कैसे जायें कहां रुकें

    नैनीताल जाने के कई मार्ग और साधन है आप हल्‍द्वानी होते हुए या काला ढूंगी होते हुए जा सकते हैं नजदीकी रेलवे स्‍टेशन काठगोदाम है, वोल्‍वो से भी जा सकते हैं मगर हल्‍द्वानी तक आगे आपको टैक्‍सी से जाना होगा।
    यहां 5 स्‍टार से लेकर गेस्‍टहाउस तक सभी तरह के विकल्‍प मौजूद है, KMVN भी है।
    यह दिल्‍ली और आस-पास के शहरों के लिए एक यादगार वीकेंड ट्रिप है। जरुर जायें।
    अन्‍य रोचक लेखों के लिए मेरा ब्‍लॉग सब्‍सक्राइब कीजिए!

    Kedar Kantha के बारे में जानकारी लीजिए यह एक बढि़या वीकेंड ट्रेक है... जरुर पढ़ें
    Yash Rawat

    Monday, September 25, 2017

    केदार कांठा - सैलानियों का स्‍वर्ग

    बर्फबारी में ट्रेकिंग का आनंंद ले हुए
    हमने विंटर ट्रैक के लिए इस बार केदारकांठा चुना, जो काफी रोमांचक अनुभव रहा। केदारकांठा उत्‍तराखंड का सबसे मशहूर ट्रेकिंग डेस्‍टीनेशन है जो उत्‍तरकाशी जिले के गोबिं वाइल्‍ सैंक्‍चुअरी क्षेत्र में आता है और इसकी ऊंचाई  समुद्रतल से 3800 मीटर के करीब है। यह सैलानियों से हमेशा गुलजार रहता है इसकी वजह है केदारकांठा टॉप से दिखायी देने वाला मनमोहक नजारा जो आपको मंत्रमुग्‍ध कर देता है जहां से आपको 13 चोटियां दिखायी देती हैं। 
    केदारकांठा जाने के लिए आपको सांकरी पहुंचना होता है, यह समुद्रतल से 1920 मीटर की ऊंचाई पर बसा एक छोटा सा गांव हैं, सांकरी से केदारकांठा टॉप की दूरी करीब 9 किमी की है, रास्‍ता एकदम खड़ी चढ़ाई वाला है।
    सांकरी में लगा साइन बोर्ड
    सांकरी में GNVN, PWD के गेस्‍ट हाउस और अन् छोटे-छोटे गेस्‍ट हाउस हैं, हम रावत  गेस्‍ट हाउस में ठहरे थे यहां के मालिक मुझे पहले से जानते थे क्‍यों हम पहले भी यहां ठहर चुके थे। गेस्‍ट हाउस काफी साफ-सुथरा है और सुविधाएं भी अच्‍छी हैं, सोलर हीटर लगे हैं, बाथरुम, कमरे, बिस्‍तर सभी कुछ बढ़िया है। मेहमान नवाजी भी अच्‍छी है। यहां के मकानों की खास बात है लकड़ी पर की गयी बहुत खूबसूरत नक्‍काशी, जो सैलानियों को चकित कर देती है।
    हमने दिल्‍ली से रात को देहरादून की बस पकड़ी और सुबह 5 बजे देहरादून पहुंचे, वहां से सीधे सांकरी तक जाने वाली बस पकड़नी थी मगर वह जा चुकी थी इसलिए हमने पुरोला की रोड़वेज बस पकड़ी, और मसूरी, कैम्‍प्‍टी फॉल, नैनबाग, नौगांव होते हुए करीब 10 बजे पुरोला पहुंचे वहां रुककर खाना खाया। यहां पर हमें सांकरी जाने वाली बस मिल गयी जो देहरादून में छूट गयी और हम इसमें सवार हो गये। पुरोला के बाद का सफर थोड़ा हिचकोले वाला है इसलिए यात्रियों के नट-बोल् खुलने शुरु हो जाते हैं बाहर के नजारे बेहद शानदार होते हैं मगर यात्री बाहर ध्‍या देने की बजाय अपनी सीट पर बने रहने की जद्दोजहद में लगा रहता है। हमारी बस जब मोरी, नैटवाड़ होते हुए करीब 5 बजे सांकरी पहुंची तो हमारे सभी साथियों ने राहत की सांस ली क्योंकि रात से अब तक सफर में सभी के नट-बोल्‍ट पूरी तरह खुल चुके थे खासकर देहरादून से सांकरी तक के सफर ने उन्‍हें बुरी तरह थका दिया था। ज्‍यादातर लोग रजाई में घुसना चाहते थे मगर ऐसा करने से उन्‍हें ऑल्‍टीट्यूड सिकनेस हो सकती थी इसलिए मैंने सबको कहा कि आगे तक घूम कर आते हैं। वहां वापिस आने के बाद सभी ने राहत की सांस ली। ठंड बहुत ज्‍यादा थी इसलिए सभी दवा ढूंढने लगे और इसी के साथ जाम टकराने लगे।  
    जूड़ा का तालाब
    अगले दिन हमने करीब 9 बजे अपना ट्रैक शुरु किया, मौसम एकदम साफ था, चटक धूप खिली थी और आसमान का चटक नीला रंग और स्‍वच्‍छ वातावरण हमारे फेफड़ों में जमा प्रदूषण की गर्द को साफ करने के लिए पर्याप्‍त। रास्‍ते पर जैसे-जैसे हम ऊपर चढ़ते जाते वैसे-वैसे सांस लेने में दिक्‍कत होने लगती थी। हम करीब 1 बजे जूड़ा का तालाब पहुंचे यहां तालाब के ऊपर पाला जमा हुआ था जो कांच के जैसा लग रहा था।
    यहां पर भी कुछ टेंट्स लगे हुए थे कुछ लोग इस ट्रैक को 5-6 दिनों में पूरा करते हैं लेकिन हमे केवल 2 दिन में पूरा करना था इसलिए हमारा बेस कैम्‍प इनके अगले कैंप से भी आगे था।
    हम करीब 3 बजे अपने बेस कैम्‍प में पहुंचे। शाम होने लगी थी और बर्फीली हवा चेहरे चीरती हुई जा रही थी, हाथों की उंगलियां सुन्‍न होने लगी थी। हिमालयी क्षेत्रों के मौसम का मिजाज जरा हटकर होता है क्‍योंकि यह हर पल बदलता रहता है। अगर चटक धूप खिली हो तो यह नहीं समझना चाहिए कि मौसम कल भी ऐसा ही बना रहेगा। हमारे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ जब हमने ट्रैक शुरु किया तो चटक धूप खिली हुई थी लेकिन शाम होते-होते मौसम ने अपना रंग दिखा शुरु कर दिया, अचानक से हवा में सफ़ेद फाहें उड़ने लगी थी और धीरे-धीरे इनकी मात्रा बढ़ने लगी, ऐसा लग रहा था मानों राख उड़ रही हो। अमूनन बर्फ गिरना शुरु होने से पहले बारिश होती है लेकिन यह मेरा भी पहला अनुभव था जब बिना किसी चेतावनी के बफबारी शुरु होने लगी थी और आस-पास की जगह सफेद चादर से ढकने लगी थी हमने किसी तरह से आग जलाने के लिए लकड़ियों की व्यवस्था की।  जहां आग जल रही थी उसके अलावा बाकी की जगह पर बर्फ जमा होने लगी थी और जैसे -जैसे शाम ढलने लगी इसकी तीव्रता बढ़ने लगी, शुक्र ये था कि हमने अपने टेंट बिछा लिए थे और वहां पर पत्‍थरों से बनी एक झोपड़ी थी जहां पर गाइड ने खाना पकाने के लिए अपना किचन बनाया।

    श्‍वेत रंग में सजा कैनवस
    गाइड को टेंटों की चिंता होने लगी थी कि कहीं वे बर्फ से दब जायें, हमारे साथ के ज्यादातर लोगों का यह पहला अनुभव था, वे तो काफी उत्साहित थे मगर वह जानता था रात काफी परेशानी में बीतने वाली थी। गाइड सारी रात हमारे टेंट्स से बर्फ हटाते रहा ताकि घुटन से हमारा काम-तमाम हो जाये।
    अगर कल्‍पना की बात करें तो नजारा सपनो के जैसा ही था – मैं जंगल में टेंट लगाये हुए हूं और सामने नदी, पहाड़, तरह-तरह के पेड़-पौधे और खूबसूरत नजारे हैं, बर्फ गिर रही है और मैं चाय पीते हुए बर्फबारी का आनंद उठा रहा हूं। मगर हकीकत की बात करें तो टेंट के अंदर हमारा हाल ज्‍यादा ठीक नहीं था, रात को ठंड से बचने के लिए रम कुछ ज्‍यादा ही हो गयी थी जिससे शरीर में पानी की कम हो गयी थी जिसकी वजह से सिर में तेज दर्द था। हम सोचने लगे कब सुबह होगी। सुबह भी बर्फबारी जारी थी और करीब 1 फीट तक बर्फ गिर चुकी थी। जहां देखूं सिर्फ एक ही रंग नजर आता था, पेड़-पौधें हों या मैदान सभी श्‍वेत रंग से रंग चुके थे मानों कोई सफेद कैनवस हो।
    हम सभी में कोई भी रुकने के लिए तैयार नहीं था, हमारा आज का प्‍लान था कि सुबह केदारकांठा समिट करेंगे और वापिस आकर टैक्‍सी बुक करके शाम तक देहरादून पहुंच जायेंगे मगर कुदरत को कुछ और ही मंजूर था। अगर हम आज रुक जाते तो अगले दिन हम ऐसा अद्भुत नजारा देखते जो हमें मरते दम तक याद रहता मगर हमारे पास समय की कमी थी इसलिए सभी ने लौटने का फैसला किया। गाइड को सबसे ज्‍यादा अपने घोड़ों की चिंता होने लगी थी क्‍योंकि उनके पैर इस तरह की परिस्थिति के लिए नहीं बने है अगर घोड़ों को कुछ हो जाता है तो उसकी साल भर की कमाई चली जायेगी। 
    सांकरी में मौसम का आनंद उठाते हुए
    बर्फबारी के बीच ही हम नीचे उतरने लगे, इतनी बर्फ जमा हो गयी, थी रास्‍ता नहीं सूझता था, ऐसी स्थिति में अनुभव काम आता है। क्‍योंकि एक गलत कदम आपको नुकसान पहुंचा सकता है इसलिए  मैं और गाइड दोनों रास्‍ता बनाते हुए चल रहे थे जिससे पीछे वालों को परेशानी न हो, हम फिसलते, गिरते-पढ़ते करीब 12 बजे सांकरी पहुंचे, खाना खाया और टैक्‍सी पकड़कर देहरादून के लिए चल पड़े। कुछ लोगों की पुरोला पहुंचते-पहुंचते उल्‍टी कर-कर के हालत पस्‍त हो चुकी थी। उन्‍हें देखकर मेरा भी मन अजीब सा हो रहा था। लेकिन पुरोला के बाद सभी ने राहत की सांस ली।
    खैर हम करीब 8-9 बजे देहरादून पहुंचे और वहां से बस पकड़कर सुबह करी 5 बजे दिल्‍ली पहुंच गये, सभी लोगों को यह अनुभव हमेशा याद रहेगा और उनके लिए एक सबक भी है कि ऐसी परिस्थिति का सामना कैसा करना है।     
    सांकरी से रुइनसारा घाटी का मनमोहक दृश्‍य
    अगर आप पहाड़ों पर जा रहे हैं तो मौसम के बारे में पता करके जायें और गर्म कपड़े जरुर लेकर जायें क्‍योंकि वहां मौसम हमेशा ठंडा रहता है। अपने साथ एनर्जी बार, चॉकलेट और ड्राई-फ्रूट्सअवश्‍य लेकर जायें।
    कई लोग बिना गाइड के चले जाते हैं ऐसा करना खतरनाक होता है, अकेले कभी न जायें अगर फिर आप जाना ही चाहते हैं तो बेस स्‍टेशन पर किसी को बताकर जायें कि आप कहां जा रहे हैं और कब तक लौटेंगे, क्‍योंकि ऊंचाई पर मोबाइल काम नहीं करते हैं और इससे संकट के समय आपको ढूंढना आसान रहता है।
    आपको यह लेख कैसा लगा जरुर बतायें और हां, मेरे ब्‍लॉग को सब्‍सक्राइब करना ना भूलें